एक क्लिक करके जानें कि क्या धोनी खेल पाएंगे 2019 क्रिकेट विश्वकप?

एक क्लिक करके जानें कि क्या धोनी खेल पाएंगे 2019 क्रिकेट विश्वकप?

इस वर्ष इंग्लैंड चौथा वेल्स में 50 ओवरों का विश्व कप खेला जाने वाला है जिसमें कुल 10 टीमें भाग लेंगी और 48 मैच खेले जाने वाला है। याद दिला दें कि इसका उद्घाटन मुकाबला 30 मई को और अंतिम मैच 14 जुलाई को लॉर्ड्स के ऐतिहासिक क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जाने वाला है। आज हम जानेंगे कि क्या महेंद्र सिंह धोनी इस आगामी विश्व कप में खेलेंगे या नहीं।


जैसा कि हमने 2016 में देखा था कि धोनी ने अचानक से टेस्ट क्रिकेट में रिटायरमेंट ले लिया था लेकिन वन डे क्रिकेट में हम यह उम्मीद नहीं कर रहे है। साथ ही बड़े-बड़े क्रिकेट पंडितों का भी यही कहना है कि माही को यह आगामी विश्व कप जरूर खेलना चाहिए। तो हमारा भी यही मानना है कि धोनी विश्वकप 2019 में जरूर खेलेंगे क्योंकि यह आज भी दुनिया के सबसे काबिल विकेटकीपर बल्लेबाजों में से एक है।



धोनी है भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर बल्लेबाज


जब विकेट कीपिंग की बात आती है, तो आज धोनी का नाम सबसे ऊपर आता है। आपको शायद यह याद नहीं आयेगा कि धोनी ने आखिरी बार कैच कब छोड़ा था क्योंकि इनके हाथ में जाने वाली गेंद कभी नहीं टपकती है। इस कारण वह यकीनन भारत में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में सबसे अच्छे विकेटकीपर है।


इसी तरह जब बल्लेबाजी की बात आती है, तो धोनी अभी भी अच्छी निरंतरता के साथ बहुत रन बना रहे हैं। 2017 में, उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ एक शतक, श्रीलंका के खिलाफ एक अर्धशतक और वेस्टइंडीज के खिलाफ एक अर्धशतक लगाया था। इसलिए वह निश्चित रूप से एक अच्छे बल्लेबाज हैं और विरोधियों के लिए सबसे बड़ा खतरा भी बन सकते है।


अगर हम उपर्युक्त दो बिंदुओं को देखें, तो धोनी को 2019 विश्वकप खेलना चाहिए। लेकिन अभी भी एक सवालिया निशान है, और वह है इनकी हालिया फॉर्म। जी हां, धोनी ने आईपीएल 2018 में काफी शानदार बल्लेबाजी की थी लेकिन इसके बाद लगातार मौकों पर बहुत खराब प्रदर्शन किया जिसके कारण उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 में आराम दिया गया। इस कारण टीम मैनेजमेंट आगामी मैचों में उनका फॉर्म देखकर भी कोई बड़ा फैसला ले सकता है।


अगर धोनी यह विश्व कप खेलते है तो टीम के मुख्य मैच फिनिशर होंगे और शायद चौथे या पांचवें नंबर पर।बल्लेबाजी कर सकते है। खबरों में हमेशा यही सुनने को मिलता है कि माही यह टूर्नामेंट खेलकर संन्यास ले लेंगे। तो अब देखते है कि क्या धोनी यह विश्व कप खेलेंगे या नहीं।


#2019 विश्वकप   #वर्ल्ड कप के लिए इन 5 तेज गेंदबाजों का हो सकता है इंडियन टीम में चयन

0 Comment

दोस्तों क्या आपको पता है एक क्रिकेट मैच में डिसीजन रिव्यू सिस्टम डीआरएस (DRS) इस्तेमाल पर कितना पैसा खर्च होता है?


डिसिज़न रिव्यू सिस्टम इन दिनों क्रिकेट के मैदान पर इस्तेमाल होने वाली एक आम तकनीक हो गयी है. आपको बता दें कि एक समय ऐसा भी था जब मैदान के अंपायर ने अगर कोई फैसला ले लिया तो उसको चुनौती देना काफी मुश्किल हो जाता था. लेकिन अब डीआरएस के आ जाने से बल्लेबाजों को कई बार फिर से बल्लेबाजी करने का मौका मिल रहा है और गेंदबाजों को विकेट मिलते नजर आ रहे हैं.महेंद्र सिंह धोनी को डीआरएस का सबसे बड़ा स्टार बोला जाता है. धोनी के फैसले सही साबित होते हुए नजर आते हैं.


जब क्रिकेट का आगाज हुआ था तो उस समय ऐसी कोई भी टेक्नोलॉजी नहीं थी लेकिन बदलते समय के साथ टेक्नोलॉजी का भी काफी विकास हुआ है। आज हर मैच टीवी पर प्रसारित किया जाता है जो कि एक आम बात है लेकिन कभी आपने सोचा है कि डीआरएस सिस्टम क्या है और इसका कॉस्ट हर मैच में क्या होता है। तो आज हम इसी पर बात करते हैं कि डीआरएस अर्थात डिसीज़न रिव्यू सिस्टम होता क्या है और हर मैच में कितने रुपए खर्च करने पड़ते हैं।


कुछ रिपोर्टो और संदर्भों के अनुसार आपको बताते हैं कि आखिर डीआरएस यानी डिसिशन रिव्यू सिस्टम क्या होता है। दरअसल आपको बता दें कि क्रिकेट मैच में आज देखा जाता है कि जब कोई इस तरह से आउट हो जाता है जिसे अंपायर समझ नहीं पाता है तो वो तीसरे अंपायर को कहता है लेकिन हर बार नहीं कह सकते है। लेकिन आज कल हर मैच में दोनों टीमों को 2-2 डीआरएस दिए जाते है जिसका सदुपयोग करते हुए फायदा उठाया जा सकता है। आज ज्यादातर कोई बल्लेबाज एलबीडब्ल्यू आउट होता है और अंपायर आउट नहीं देता है तो गेंदबाजी करने वाली टीम यह रिव्यू मांगती है और इसे डिशिसन रिव्यू सिस्टम कहा जाता है।




एक मैच कितना कोस्ट होता है डिसीज़न रिव्यू सिस्टम का


वहीं अगर हम एक मैच के डीआरएस के कॉस्ट के बारे में बात करें तो यह काफी ज्यादा होती है। बता दें कि एक मैच में 2 कैमरा सेटअप के लिए $6000 भरने पड़ते हैं। वहीं अन्य चार सेट कैमरे के लिए $10000 और उसके साथ हॉटस्पॉट भी होता है। अर्थात कहने का मतलब यह है कि एक मैच में 16000 डॉलर सिर्फ डीआरएस यानी डिसिशन रिव्यू सिस्टम पर खर्च करने पड़ते हैं जो कि एक बहुत बड़ी रकम है।



डिसिशन रिव्यू सिस्टम जो गेंदबाजी करने वाली टीम के पक्ष में बहुत ज्यादा रहते हैं और काफी फायदेमंद होते हैं क्योंकि कई बार अंपायर को समझ नहीं आता है और वह आउट नहीं देते हैं। इस कारण इस दौरान अगर टीम के पास रिव्यू बचा हुआ होता है तो वह उसका इस्तेमाल करके फायदा उठा सकते हैं।

0 Comment

एक क्लिक करके जानें कि क्या धोनी खेल पाएंगे 2019 क्रिकेट विश्वकप?

इस वर्ष इंग्लैंड चौथा वेल्स में 50 ओवरों का विश्व कप खेला जाने वाला है जिसमें कुल 10 टीमें भाग लेंगी और 48 मैच खेले जाने वाला है। याद दिला दें कि इसका उद्घाटन मुकाबला 30 मई को और अंतिम मैच 14 जुलाई को लॉर्ड्स के ऐतिहासिक क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जाने वाला है। आज हम जानेंगे कि क्या महेंद्र सिंह धोनी इस आगामी विश्व कप में खेलेंगे या नहीं।


जैसा कि हमने 2016 में देखा था कि धोनी ने अचानक से टेस्ट क्रिकेट में रिटायरमेंट ले लिया था लेकिन वन डे क्रिकेट में हम यह उम्मीद नहीं कर रहे है। साथ ही बड़े-बड़े क्रिकेट पंडितों का भी यही कहना है कि माही को यह आगामी विश्व कप जरूर खेलना चाहिए। तो हमारा भी यही मानना है कि धोनी विश्वकप 2019 में जरूर खेलेंगे क्योंकि यह आज भी दुनिया के सबसे काबिल विकेटकीपर बल्लेबाजों में से एक है।



धोनी है भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर बल्लेबाज


जब विकेट कीपिंग की बात आती है, तो आज धोनी का नाम सबसे ऊपर आता है। आपको शायद यह याद नहीं आयेगा कि धोनी ने आखिरी बार कैच कब छोड़ा था क्योंकि इनके हाथ में जाने वाली गेंद कभी नहीं टपकती है। इस कारण वह यकीनन भारत में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में सबसे अच्छे विकेटकीपर है।


इसी तरह जब बल्लेबाजी की बात आती है, तो धोनी अभी भी अच्छी निरंतरता के साथ बहुत रन बना रहे हैं। 2017 में, उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ एक शतक, श्रीलंका के खिलाफ एक अर्धशतक और वेस्टइंडीज के खिलाफ एक अर्धशतक लगाया था। इसलिए वह निश्चित रूप से एक अच्छे बल्लेबाज हैं और विरोधियों के लिए सबसे बड़ा खतरा भी बन सकते है।


अगर हम उपर्युक्त दो बिंदुओं को देखें, तो धोनी को 2019 विश्वकप खेलना चाहिए। लेकिन अभी भी एक सवालिया निशान है, और वह है इनकी हालिया फॉर्म। जी हां, धोनी ने आईपीएल 2018 में काफी शानदार बल्लेबाजी की थी लेकिन इसके बाद लगातार मौकों पर बहुत खराब प्रदर्शन किया जिसके कारण उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 में आराम दिया गया। इस कारण टीम मैनेजमेंट आगामी मैचों में उनका फॉर्म देखकर भी कोई बड़ा फैसला ले सकता है।


अगर धोनी यह विश्व कप खेलते है तो टीम के मुख्य मैच फिनिशर होंगे और शायद चौथे या पांचवें नंबर पर।बल्लेबाजी कर सकते है। खबरों में हमेशा यही सुनने को मिलता है कि माही यह टूर्नामेंट खेलकर संन्यास ले लेंगे। तो अब देखते है कि क्या धोनी यह विश्व कप खेलेंगे या नहीं।


#2019 विश्वकप   #वर्ल्ड कप के लिए इन 5 तेज गेंदबाजों का हो सकता है इंडियन टीम में चयन

0 Comment

ये है महेंद्र सिंह धोनी की वनडे क्रिकेट में 5 सबसे अच्छी पारियां, फिर से आलोचकों का होगा जल्दी मुंह बंद

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जिन्हें आज भी सबसे बेहतरीन कप्तानों में से एक माना जाता है। हालांकि माही आज टीम इंडिया के कप्तान तो नहीं है लेकिन फिर भी अगर दूसरे नजरिए से देखें तो कप्तान ही है क्योंकि हर मैच में यह विराट कोहली और रोहित शर्मा को सलाह देते हुए नजर आते हैं।

धोनी ने अपना पहला मुकाबला साल 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ खेला था जिसमें वह बिना कोई रन बनाए आउट हुए थे। तो आज हम बात करने वाले हैं माही की 5 सबसे अच्छी वनडे पारियों के बारे में जिसमें उन्होंने खूभ रन बनाए थे।



ये है महेंद्र सिंह धोनी की वनडे की 5 सबसे अच्छी पारियां


- श्रीलंका के खिलाफ नाबाद 183 रन


यह बाद साल 2005 की है जब पूरे भारतवर्ष में दिवाली का त्योहार मनाया जा रहा था लेकिन दूसरी तरफ जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में महेंद्र सिंह धोनी अलग ही दिवाली श्रीलंका के खिलाफ मना रहे थे। माही ने उस मैच में काफी जबरदस्त बल्लेबाजी की और नाबाद 183 रन बना डाले।

दरअसल बात यह है कि श्रीलंका ने 50 ओवर में 4 विकेट पर 298 रन बनाए थे इसके बाद भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और सचिन तेंदुलकर के रूप में पहला विकेट जल्दी गिर गया। लेकिन फिर धोनी आए और उन्होंने 10 छक्कों और 15 चौकों की मदद से 183 रन बनाकर टीम इंडिया को जीत दिला दी। धोनी का वनडे में यह सबसे बड़ा स्कोर है।


- 148 रन बनाम पाकिस्तान


वैसे आपको बता दें कि धोनी ने सबसे पहला शतक पाकिस्तान के खिलाफ डॉ वाई एस राजशेखर रेड्डी क्रिकेट स्टेडियम पर बनाया था। उस मैच में टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी की और धोनी के 148 रनों की बदौलत 356 रन बनाए। जवाब में पाकिस्तान की टीम 298 रन पर ऑल आउट हुई और भारत को 58 रनों से जीत मिली थी।


- 139 रन बनाम ऑस्ट्रेलिया


साल 2013 में धोनी ने मोहाली में खेले गए सीरीज के तीसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कठिन परिस्थितियों में 139 रनों की नाबाद पारी खेली थी। जिसके चलते टीम इंडिया का स्कोर 303 तक पहुंचा लेकिन फिर भी यह मुकाबला ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 6 विकेट से जीता था।


- 134 रन बनाम इंग्लैंड


साल 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ कटक में खेले गए वनडे मैच में महेंद्र सिंह धोनी ने काफी लंबे समय बाद इतनी बड़ी पारी खेली थी। इस मैच में उन्होंने युवराज सिंह के साथ बेहतरीन बल्लेबाजी की और 134 रनों की पारी खेली थी।


- 124 रन बनाम ऑस्ट्रेलिया


दाहिने हाथ के दिग्गज बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने 2010 में नागपुर में खेले गए वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 124 रनों की उपयोगी पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने 107 गेंदों का सामना करते हुए 124 रन बनाए थे। इस तरह ऑस्ट्रेलियाई टीम को 355 रन बनाने थे लेकिन उनकी टीम महज 255 रन पर ऑल आउट हो गई और भारत ने जीत हासिल की।

#महेंद्र सिंह धोनी #महेंद्र सिंह धोनी रिकार्ड्स #इंडियन क्रिकेट टीम

0 Comment