गौतम गंभीर ने लिया सन्यास, सोशल मीडिया पर गौतम गंभीर ने रुला देने वाला सन्देश लिखा और क्रिकेट से सन्यास लिया

गौतम गंभीर ने लिया सन्यास, सोशल मीडिया पर गौतम गंभीर ने रुला देने वाला सन्देश लिखा और क्रिकेट से सन्यास लिया

कभी टीम इंडिया के ओपनर बल्लेबाज रहे गौतम गंभीर ने सन्यास की घोषणा कर दी है. गौतम गंभीर ने अपने ट्विटर के माध्यम से इस बात का खुलासा किया है कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से हमेशा के लिए विदा हो रहे हैं. गौतम गंभीर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्विटर से इस बात का जिक्र किया है कि बड़े भारी दिल से उनको यह बात बोली पड़ रही है कि वह अब क्रिकेट से सन्यास ले रहे हैं और अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर को अलविदा बोल रहे हैं.


"सबसे मुश्किल फ़ैसले बेहद भारी मन के साथ लिए जाते हैं. और भारी मन के साथ मैंने वह घोषणा करने का फ़ैसला किया है, जिसके बारे में ज़िंदगी भर डरता रहा हूं."




गौतम गंभीर ने क्रिकेट से लिया सन्यास


निश्चित रूप से गौतम गंभीर के फैंस के लिए यह बात काफी दुख भरी होगी कि अब गौतम गंभीर टीम इंडिया के लिए खेलते हुए नजर नहीं आएंगे. गौतम गंभीर निश्चित रूप से एक शानदार खिलाड़ी थे और जब तक टीम इंडिया के लिए यह खेले हैं तब तक इनका खेल टीम इंडिया के लिए काफी मददगार साबित रहा है.


गौतम गंभीर ने टी20 विश्व कप के फाइनल में भी काफी शानदार रन बनाकर महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया को विश्व कप दिलाया था और इसके बाद साल 2011 के वनडे विश्वकप में भी गौतम गंभीर की शानदार पारी कभी कोई भूल नहीं सकता है. फाइनल में गौतम गंभीर ने टीम इंडिया को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था.




गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग कभी शानदार तरीके से टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी हुआ करते थे. आज टीम में ना तो सहवाग है और ना ही अब गौतम गंभीर खेलते हुए नजर आते हैं. गौतम गंभीर ने टीम इंडिया में वापसी के लिए काफी प्रयास तो किए हैं लेकिन वह सभी असफल साबित रहे.


गौतम गंभीर के क्रिकेट करियर की बात करें तो गौतम गंभीर ने 58 टेस्ट मैचों में 4154 रन बनाए हैं तो वहीं वनडे में गौतम गंभीर ने 140 मैचों में 5238 रन बनाए. टी20 में गौतम गंभीर के नाम 35 मैचों में 932 हैं. गौतम गंभीर ने टेस्ट में 9 और वनडे में 11 शतक लगाए हैं. निश्चित रूप से गौतम गंभीर एक शानदार खिलाड़ी थे लेकिन लगातार इनकी फॉर्म उनका साथ नहीं दे रही है जिसके कारण शायद अब गौतम गंभीर ने क्रिकेट से संन्यास लेने का मन बना लिया है.


यह भी जरूर पढ़ें-


हुआ खुलासा, क्यों महेंद्र सिंह धोनी खुद अब भारत के लिए विश्वकप 2019 नहीं खेलना चाहते हैं?

0 Comment

कभी सोचा है द्रविड़ और धोनी में कौन ज्यादा अच्छा बल्लेबाज़ रहा है? आइये आंकड़ो का विश्लेषण करें

Who is better between Dravid & Dhoni?टीम इंडिया के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज़ एमएस धोनी और द वाल के नाम मशहुर राहुल द्रविड़ भारत के दो सबसे अनमोल रत्नों में से एक हैं. दोनों ही खिलाडियों ने अपने देश के लिए कीर्तिमान हासिल किये हैं. हालाँकि फैन्स के मन में एक प्रश्न बार-बार आता है कि आखिर दोनों में से कौनसा बल्लेबाज़ ज्यादा अच्छा हैं?


धोनी और राहुल द्रविड़ में कौन ज्यादा अच्छा क्रिकेटर है विश्लेषण करेगे:-




एमएस धोनी टेस्ट क्रिकेट के आंकड़े


एमएस धोनी ने अपने टेस्ट करियर के दौरान 90 मैचों की 144 पारियों में 38.09 की औसत से 4876 रन बनायें. इस दौरान उन्होंने 224 रनों के सर्वोच्च स्कोर कुल 6 शतक और 33 अर्द्धशतक भी लगायें हैं.

भारतीय सरजमी पर धोनी का टेस्ट प्रदर्शन


एमएस धोनी ने अपने टेस्ट करियर के दौरान भारत में 42 टेस्ट मैचो की 61 पारियों में 45.76 की औसत से 2810 रन बनायें. इस दौरान उन्होंने 5 शतक और 15 अर्द्धशतक भी लगायें.

घर से बाहर टेस्ट में धोनी का प्रदर्शन

एमएस धोनी ने भारत के बाहर 48 टेस्ट मैचो की 83 पारियों में 32.84 की औसत से 2496 रन बनायें हैं, इस दौरान उन्होंने सिर्फ एक शतक और 18 अर्द्धशतक लगायें हैं.



राहुल द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट के आंकड़े


टीम इंडिया की वॉल राहुल द्रविड़ ने अपने टेस्ट करियर के दौरान 164 मैचो की 286 पारियों में 52.31 की औसत से 13288 रन बनायें, इस दौरान उन्होंने 36 शतक और 63 अर्द्धशतक लगायें हैं.


भारतीय सरजमी पर द्रविड़ का टेस्ट प्रदर्शन

राहुल द्रविड़ ने भारतीय सरजमी पर 70 टेस्ट मैचो की 120 पारियों में 51.35 की औसत से 5598 रन बनायें हैं,इस दौरान द्रविड़ ने 15 शतक और 27 अर्द्धशतक भी लगायें.

घर से बाहर टेस्ट में द्रविड़ का प्रदर्शन

राहुल द्रविड़ ने घरेलू सरजमी से बाहर 93 टेस्ट मैचो की 164 पारियों में 53.61 की औसत से 7667 रन बनायें, इस दौरान द्रविड़ ने 21 शतक और 36 अर्द्धशतक भी लगायें.

नतीजा:- आंकड़ो के अनुसार टेस्ट क्रिकेट में राहुल द्रविड़ एमएस धोनी से काफी बेहतर दिखाई दे रहे हैं.



धोनी का वनडे में प्रदर्शन

एमएस धोनी ने अब तक भारत के लिए 338 वनडे में 50.8 की औसत और 87 की स्ट्राइक रेट से 11877 रन बनायें हैं, इस दौरान उन्होंने 10 शतक 70 अर्धशतक लगायें हैं.

भारतीय सरजमी पर धोनी का वनडे प्रदर्शन

एमएस धोनी भारतीय सरजमी पर सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं. धोनी ने अपने वनडे करियर की 107 पारियों में 55.47 की औसत और 91.97 की स्ट्राइक रेट से 4216 रन बनायें हैं, इस दौरान उन्होंने 7 शतक और 24 अर्धशतक भी लगायें हैं.

घर से बाहर धोनी का वनडे प्रदर्शन

एमएस धोनी ने वनडे क्रिकेट में घर से बाहर भी अच्छा प्रदर्शन किया हैं. धोनी ने घर से बाहर 159 पारियों में 47.12 की औसत और 84.66 की स्ट्राइक रेट से 5466 रन बनायें हैं, इस दौरान उन्होंने 2 शतक और 43 अर्धशतक लगायें हैं.




राहुल द्रविड़ वनडे रिकार्ड्स

टेस्ट क्रिकेट के दिग्गज राहुल द्रविड़ का वनडे क्रिकेट में भी रिकॉर्ड शानदार रहा हैं. राहुल द्रविड ने अपने वनडे करियर के दौरान 344 मैचो में 39.16 की औसत और 71.24 की स्ट्राइक रेट से 10889 रन बनायें, इस दौरान द्रविड़ ने 12 शतक और 83 अर्धशतक भी लगायें.

भारतीय सरजमी पर द्रविड़ का वनडे प्रदर्शन

राहुल द्रविड़ ने भारतीय सरजमी पर 94 वनडे खेले हैं, इस दौरान उन्होंने 43.61 की औसत और 78.54 की स्ट्राइक रेट से 3402 रन बनायें. द्रविड़ ने भारत में 6 शतक और 24 अर्धशतक भी लगायें.

घर से बाहर द्रविड़ का वनडे प्रदर्शन

राहुल द्रविड़ ने अपने वनडे के करियर के दौरान 243 मैच भारत से बाहर खेले. इसा इस दौरान उन्होंने 37.56 की औसत और 68.23 की स्ट्राइक रेट से 7362 रन बनायें. भारत से बाहर द्रविड़ ने 6 शतक और 68 अर्धशतक भी लगायें.

नतीजा:- वनडे क्रिकेट के आंकड़ो के अनुसार एमएस धोनी का पलड़ा भारी दिखाई देता हैं. लेकिन राहुल द्रविड़ ने जिन परिस्थितियों में इंडियन टीम के लिए खेला था तो द्रविड़ को धोनी से बेहतर क्रिकेटर बोला जा सकता है.

0 Comment

आईसीसी वर्ल्ड कप 2019: 5 सर्वश्रेष्ठ टीम जो जीत सकती है 2019 का क्रिकेट विश्वकप

5 टीमें जो जीत सकती है 2019 का क्रिकेट विश्वकप, 2019 क्रिकेट विश्व कप आने वाले समय में सबसे प्रतीक्षित खेल आयोजनों में से एक है। टूर्नामेंट 30 मई 2019 को शुरू होगा और दस टीमें एक-दूसरे के साथ मिलकर प्रतिष्ठित मुकाबले खेलने वाली है। केवल पांच टीमें - वेस्टइंडीज, भारत, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और श्रीलंका टूर्नामेंट को जीतने में सफल रही हैं और इसकी शुरुआत 1975 में हुई थी।


हालांकि, विश्व कप का यह संस्करण इंग्लैंड में हो रहा है और इसके बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिलने वाली है। आज हम बात करने वाले है उन टीमों के बारे में जो इस खिताब को जीत सकती है।


-5 टीम जो जीत सकती है 2019 का क्रिकेट विश्व कप




1. इंग्लैंड


इंग्लैंड ने कभी भी 50 ओवर का विश्व कप नहीं जीता है। टूर्नामेंट के सभी दस संस्करणों में यथोचित ठोस टीमों की विशेषता के बावजूद, वे कभी भी प्रतिष्ठित ट्रॉफी नहीं उठा पाए। इयोन मोर्गन की टीम का मौजूदा रूप अभूतपूर्व रहा है और यह इस तथ्य से स्पष्ट है कि वे वनडे में शीर्ष क्रम की टीमों में से एक हैं।


इंग्लैंड के पास बल्लेबाजी में असाधारण गहराई है और वह सीमित ओवरों में किसी भी स्कोर का पीछा कर सकती है। कप्तान मॉर्गन, जो रूट, जॉनी बेयरस्टो और जोस बटलर हालिया समय में शानदार फॉर्म में हैं। उन्हें घरेलू परिस्थितियों में खेलने का अतिरिक्त लाभ भी है और इस तरह से 2019 विश्व कप जीतने के प्रबल दावेदार हैं।




2. भारत


वर्तमान में, भारत सीमित ओवरों के प्रारूप में यकीनन सबसे संतुलित टीम है। पिछले एशिया कप और वेस्टइंडीज श्रृंखला तथा अब ऑस्ट्रेलिया तथा न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया ने अपना जलवा दिखा दिया है।


भारत की बल्लेबाजी इकाई में रोहित शर्मा, शिखर धवन, कप्तान विराट कोहली और धोनी काफी जबरदस्त फॉर्म में हैं, जो निश्चित रूप से दुनिया के सबसे अच्छे खिलाड़ियों में गिने जाते है। इसके अलावा, दो कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल भी लगातार अच्छा क्रिकेट खेल रहे है।


जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या के नेतृत्व में तेज आक्रमण भी काफी आशाजनक है। व्हाइट-बॉल प्रारूपों में लगातार जीतने का अनुभव भी टीम के लिए एक अतिरिक्त लाभ बनाता है।




3. ऑस्ट्रेलिया


ऑस्ट्रेलिया पिछले विश्व कप की विजेता टीम है और वह अब तक पांच मौकों पर प्रतिष्ठित टूर्नामेंट जीत चूकी है। हालांकि ऑस्ट्रेलियाई टीम अभी एक खराब दौर से गुजर रही है, फिर भी वे टूर्नामेंट जीतने वाली शीर्ष टीमों में से एक हैं।


बॉलिंग यूनिट जिसमें मिचेल स्टार्क, जोश हेज़लवुड और पैट कमिंस शामिल हैं, जो किसी भी बल्लेबाजी इकाई को दूसरी बड़ी पिचों पर खतरा बन सकते हैं। इसके अलावा, स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर की वापसी बल्लेबाजी इकाई को बढ़ाएगी।




4. दक्षिण अफ्रीका


दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम ने जैक्स कैलिस, शॉन पोलक और एलन डोनाल्ड जैसे दिग्गजों को दिया था लेकिन वह कभी जीत नहीं पायी। लेकिन अब टीम बदल चुकी है।


2019 विश्वकप प्रोटियाज के लिए खुद को एक चैंपियन टीम के रूप में पंजीकृत करने का एक अवसर है। हाशिम अमला, एडेन मार्करम, फाफ डु प्लेसिस और जेपी डुमिनी के बल्लेबाजी क्रम में किसी भी गेंदबाजी इकाई पर भारी पड़ सकती है। दक्षिण अफ्रीकी टीम में तेज गेंदबाज की बात करें तो अभी कगिसो रबाडा, लुंगी एनगिडी और क्रिस मॉरिस इंग्लिश परिस्थितियों में अच्छी गेंदबाजी कर सकते है।




5. पाकिस्तान


पाकिस्तान की टीम वर्तमान में दुनिया में सबसे संतुलित वनडे टीमों में से एक है। इसके अलावा, उन्होंने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी फ़ाइनल में भारत को बड़े पैमाने पर हराकर कप अपने नाम किया था और अपनी साख साबित की। इंग्लैंड में खेलना उन्हें 2019 विश्व कप के प्रबल दावेदारों में से एक बनाता है।


इंग्लिश पिच हसन अली और शाहीन शाह अफरीदी की तेज गेंदबाजी के अनुरूप होंगी। मध्यक्रम में शोएब मलिक और कप्तान सरफराज की मौजूदगी भी बल्लेबाजी विभाग में स्थिरता का आश्वासन देगी। शादाब खान और इमाद वसीम अपनी स्पिन गेंदबाजी से बहुत प्रभावशाली रहे हैं।


यह भी जरूर पढ़ें-  5 बड़े क्रिकेटर जो 2019 क्रिकेट विश्वकप के तुरंत बाद संन्यास ले सकते हैं

0 Comment

नंबर 4 पर इंडियन टीम में बल्लेबाजी, 2019 विश्वकप में धोनी और अंबाती रायडू को यह धुरंधर बल्लेबाज दे रहा है नंबर 4 पर चुनौती

इस वर्ष 50 ओवरों के विश्व कप का आयोजन किया जाने वाला है। बता दें कि इसका आगाज 30 मई से इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका की मैच के साथ होगा। वहीं भारत अपना पहला मैच 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के साथ खेलने वाली है।


साथ आपको यह भी बता दें कि टीम इंडिया में अभी कई नए खिलाड़ी भी इस विश्वकप में जगह बना सकते हैं और अपनी छाप छोड़ सकते हैं। तो आज बात करने वाले हैं नंबर 4 के तीन विकल्पों पर कि कौन से वो तीन खिलाड़ी होंगे जो आगामी विश्वकप में नंबर 4 पर खेल सकते है।


यह है नंबर 4 के 3 बल्लेबाज जो बना सकते हैं विश्व कप 2019 में जगह



अंबाती रायडू


हैदराबाद के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने वाले अंबाती रायडू जिन्होंने अब तक 47 एकदिवसीय मैच खेले हैं। जिसमें 49 की औसत से शानदार बल्लेबाजी करते हुए तीन शतकों और नौ अर्धशतकों की मदद से 1471 रन बनाए हैं। हम विश्वकप में अंबाती रायडू नंबर 4 के रूप में सबसे आगे माने जा रहे हैं। इन्होंने 2018 के आईपीएल में भी दमदार प्रदर्शन किया था।



महेंद्र सिंह धोनी


भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों काफी जबरदस्त फॉर्म में चल रहे है। माही ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज में तीन लगातार शतक बनाकर आलोचकों को करारा जवाब दिया है। साथ ही तीसरे और अंतिम मैच में धोनी नंबर चार पर बल्लेबाजी करने उतरे और नाबाद 87 रनों की पारी खेली। इस कारण इस विश्व कप में धोनी नंबर चार पर बल्लेबाजी कर सकते हैं।


यह बल्लेबाज दे सकता है धोनी और अंबाती रायडू को भी टक्कर



इसी बीच आपको बता दें कि भारतीय टीम में महेंद्र सिंह धोनी और अंबाती रायडू तो सबसे बड़े खिलाड़ियों में गिने जाते हैं और मुख्य चार नंबर के विकल्प हैं। लेकिन एक ऐसा भी युवा बल्लेबाज हैं जो इन दोनों को टक्कर दे सकता है। दरअसल वह कोई और नहीं बल्कि पंजाब के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने वाले युवा शुभमन गिल है। जी हां, शुभमन गिल ने अब तक सिर्फ 9 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं जिसमें 77 की औसत से 1089 रन बनाए हैं। इनके अलावा 36 लिस्ट ए मैचों में 47 की औसत से 1529 रन बना चुके हैं। दोनों प्रारूपों में इनके नाम अब तक 7 शतक और 14 अर्धशतक हैं।


तो देखने वाली बात यही रहेगी कि क्या शुभमन गिल को आगामी विश्व कप में शीर्ष नंबर 4 के रूप में शामिल किया जाता है या नहीं क्योंकि अभी तक इन्होंने एक भी अंतर्राष्ट्रीय मैच नहीं खेला है।


जरूर पढ़ें- ICC World Cup 2019: लगी कोहली की मोहर, विश्वकप में इन 3 ऑलराउंडरों को मिलने वाला है भारतीय टीम में मौका

0 Comment