Kapil Dev - Biography, Career, Statistics,Records,Family - Cricket Panchayat

 Kapil Dev - Biography, Career, Statistics,Records,Family - Cricket Panchayat

कपिल देव

कपिल देव भारत के पूर्व क्रिकेटर हैं। सिर्फ भारत के ही नहीं विश्व के इतिहास में कपिल सबसे महान ऑलराउंडर है। भारतीय क्रिकेटर कपिल देव को लोग जितना पहले जानते थे उतना ही आज भी जानते हैं। भारतीय इतिहास में पहला वर्ल्ड कप अगर किसी ने भारत की झोली में डाला तो वह एकमात्र कपिल देव थे। कपिल के नेतृत्व में भारत में 1983 में पहला वर्ल्ड कप जीता।

अपने क्रिकेट करियर कपिल देव ज्यादातर स्ट्राइक बॉलर के तौर पर शामिल हुए। कपिल देव बॉलिंग ही नहीं कराते थे बल्कि उनके अंदर बल्लेबाजी का भी टैलेंट था। सबसे खास बात यह थी कि जब टीम के सभी बल्लेबाज फेल हो जाते थे तो कपिल देव हिट साबित होते थे। यही कारण है कि उन्होंने कई बार ऐसे मौके पर जीत दिलाई जब जीत लगभग भारत के हाथ निकल चुका होता था।


जीवन काल

कपिल देव का जन्म हरियाणा के मध्यवर्गीय परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम राम लाल तथा माता का नाम राजकुमारी है। कपिल देव के पिता रामलाल इमारती लकड़ी के कॉन्ट्रैक्टर का काम करते थे। कपिल देव का परिवार पहले रावलपिंडी में रहता था जो वर्तमान पाकिस्तान में है। आजादी के बाद कपिल देव के माता पिता भी रावलपिंडी छोड़ भारत आ गए। कपिल DAV स्कूल से पढ़ाई की और बाद में शिमला के सेंट एडवर्ड स्कूल से आगे की शिक्षा हासिल की। कपिल देव को बचपन से ही क्रिकेट का जुनून था यही कारण है कि उन्होंने अपने स्कूल के दिनों से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था।


करियर

क्रिकेट की शुरुआत उन्होंने हरियाणा के साथ खेल कर किया। कपिल देव ने पहली बार नवंबर 1975 में पंजाब के खिलाफ हरियाणा से क्रिकेट खेला। उस समय इन्होंने 6 विकेट लिए और साथ ही 63 रन का स्कोर भी खड़ा किया। उनके इस परफॉर्मेंस के कारण हरियाणा पंजाब को हराने में कामयाब रहा। उसके बाद 1976-77 में भी उन्होंने जम्मू एंड कश्मीर के खिलाफ मैच खेला जिसमें 8 विकेट लिए और 36 रन बनाए। उसी साल बंगाल के खिलाफ मैच खेलते हुए कपिल देव ने 20 रन देकर 7 विकेट लिए। लगातार उनके बेस्ट परफॉर्मेंस के कारण उन्हें भारतीय टीम में जगह दिया गया। उन्होंने अपने कैरियर पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने अपने मैच के कारण लोगों पर अपनी छाप छोड़ दी।

कपिल देव ने अपना पहला टेस्ट शतक वेस्टइंडीज के खिलाफ लगाया है जिसमें उन्होंने 124 बोलों में 126 रन बनाए। वेस्टइंडीज के खिलाफ हुए इस सीरीज में उन्होंने कुल 17 विकेट लिए थे इसके बाद धीरे-धीरे आगे बढ़ता रहे और तरक्की करते रहें। सबसे ज्यादा कपिलदेव को सुर्खियां तब मिली जब उन्हें पाकिस्तान के खिलाह हुए 6 टेस्ट मैचों के सीरीज में दो बार जीत दिलाई।

कपिल देव ने कुल 3 वर्ल्ड कप खेले जिसमें से उन्होंने एक की कप्तानी की। 1983 के वर्ल्ड कप में उन्होंने टीम को जीत दिलाया। यह कपिल देव की कप्तानी में टीम इंडिया का पहला वर्ल्ड कप जीत था। इससे पहले कोई भी कप्तान वर्ल्ड कप भारत लाने में कामयाब नहीं हो पाया था।

साल 1987 में जब बाद के वर्ल्ड कप में कपिल देव के खराब परफॉर्मेंस के कारण भारत वर्ल्ड कप नहीं जीत पाए तो इसके बाद कपिल देव ने अपना इस्तीफा दे दिया। अपने क्रिकेट कैरियर को विराम देने के बाद देव ने खेल की कोचगीरि 1999 में करनी शुरु की। वे 1 साल तक टीम इंडिया के कोच के तौर पर भारतीय टीम से जुड़े रहे लेकिन वह कोच के तौर पर सफल नहीं हो पाए और उन्होंने एक साल बाद ही अपने कोच पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद कपिल देव क्रिकेट के एक एक्स्पर्ट के तौर पर विभिन्न चैनलों पर नजर आने लगे। बाद में स्पोर्ट्स चैनल के साथ बतौर कमेंट्रेटर भी जुड़ गए। आज भी आज भी कपिल देव कई चैनलों पर कमेंट करते दिखाई दे जाते हैं।

ट्रॉफी और सम्मान

अपने बेहतरीन परफॉर्मेंस की वजह से कपिल देव को कई सम्मानों से नवाजा जा चुका है। देश को पहला वर्ल्ड कप दिलाने का अचीवमेंट कपिल देव के पास ही है। कपिल देव अपने समय के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज है। उन्होंने अपने समय में 434 विकेट लिए जो उस समय तक कभी किसी ने नहीं लिया था। 1991 में उन्हें पद्मभूषण सम्मान से नवाजा गया इसके बाद तो कपिल देव के पास अवार्ड की लाइन लग गई। उन्हें बहुत सारे अवार्ड से सम्मानित सम्मानित किया जा चुका है।

नीजी जीवन

निजी जीवन में कपिल देव को 1989 में रूमी भाटिया से प्यार हो गया। रुमी भाटिया से उनकी पहली मुलाकात एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुई थी जिसे पहली बार में देखते ही उन्हें प्यार हुआ और बाद में दोनों ने शादी कर लिया। कपिल देव की एक बेटी भी है। क्रिकेट से रिटायर होने के बाद कपिल देव ने गोल्फ खेलना पसंद किया। अक्सर गोल्फ के इवेंट में नजर आते हैं। कपिल देव बॉलीवुड की फिल्म इकबाल और मुझसे शादी करोगी में कम्यू भी कर चुके हैं।




Statisitics

Batting and fielding averages


Mat

Inns

NO

Runs

HS

Ave

BF

SR

100

50

6s

Ct

St

Tests 

131

184

15

5248

163

31.05



8

27

61

64

0

ODIs 

225

198

39

3783

175*

23.79

3979

95.07

1

14


71

0

Bowling averages


Mat

Inns

Balls

Runs

Wkts

BBI

BBM

Ave

Econ

SR

4w

5w

10

Tests 

131

227

27740

12867

434

9/83

11/146

29.64

2.78

63.9

17

23

2

ODIs 

225

221

11202

6945

253

5/43

5/43

27.45

3.71

44.2

3

1

0





0 Comment

23 मार्च को आईपीएल 2019 के पहले ही मैच में धोनी बनाएंगे सबसे बड़ा रिकॉर्ड, कई धाकड़ बल्लेबाजों को छोड़ देंगे पीछे

आईपीएल 2019 का पहला मैच महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स और विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के मध्य 23 मार्च को एम ए चिदंबरम स्टेडियम, चेपौक, चेन्नई में खेला जाने वाला है। इसकी घोषणा बीते दिनों बीसीसीआई ने कर दी है। हालांकि अभी तक पहले 2 सप्ताह के लिए ही कार्यक्रम की घोषणा की है और बाकी चुनावों को देखते हुए बाद में ऐलान किया जाएगा।

याद हो कि पिछले सीजन में महेंद्र सिंह धोनी की टीम ने 2 साल बाद बेहतरीन वापसी की और फाइनल मुकाबला भी जीता था। उस सीजन में खुद धोनी ने भी खूब रन बनाए और अब पहले ही मैच में एक बड़ा रिकॉर्ड भी बनाने वाले हैं।



धोनी बना सकते हैं यह बड़ा रिकॉर्ड

पूर्व भारतीय टीम के कप्तान और वर्तमान चेन्नई सुपर किंग्स के विकेटकीपर बल्लेबाज और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पहले ही मैच में एक बड़ा कारनामा कर सकते हैं।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ खेले जाने वाले इस मैच में अगर धोनी को ज्यादा बल्लेबाजी करने का मौका मिलता है और वह 43 रन बना देते हैं तो सबसे ज्यादा रन के मामले में छठे स्थान पर कायम शिखर धवन (4058) को पछाड़ देंगे। जबकि 71 रन बनाते ही माही रनों के मामले टॉप 5 में शामिल हो जाएंगे।

धोनी के अभी तक आईपीएल में 175 मैच खेलकर 4016 रन है जिसमें उनके 20 अर्धशतक शामिल है। इसी बीच वर्तमान समय में आईपीएल में सबसे अधिक रन बनाने वाले सुरेश रैना हैं जिन्होंने 176 मैचों में 4985 रन ठोके हैं। जबकि विराट कोहली (4948) दूसरे, रोहित शर्मा (4493) तीसरे, गौतम गंभीर (4217) चौथे और रॉबिन उथप्पा (4086) पांचवें स्थान पर हैं। धोनी शिखर धवन के बाद सातवें स्थान पर है लेकिन उनके पास नंबर पांच पर आने का बहुत अच्छा मौका है।

याद हो कि पिछले सीजन में धोनी ने 16 मैचों में 75.83 की सबसे अच्छी बल्लेबाजी औसत से कुल 455 रन बनाए थे जिसमें इनके तीन अर्धशतक भी थे। अब देखा जाएगा कि उनका बल्ला इस सीजन में बोलता है या नहीं।

#विराट कोहली #क्रिस गेल #आईपीएल रिकार्ड्स

0 Comment

3 क्रिकेटर जो नहीं आएंगे 2020 के टी20 विश्वकप में नजर, खत्म हो चुका होगा इन 3 बाहुबली खिलाड़ियों का करियर

2020 में आईसीसी टी-20 विश्व कप खेला जाने वाला है। बता दें कि इसका आयोजन 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक ऑस्ट्रेलिया में होगा। यह सातवां टी-20 विश्वकप है। पहले विश्व कप में भारतीय टीम ने पाकिस्तान को फाइनल मुकाबले में हराकर खिताब अपने नाम किया था। वहीं ऑस्ट्रेलियाई टीम अब तक एक बार भी यह खिताब अपने नाम नहीं कर पाई है लेकिन इस बार उनके पास अच्छा मौका होगा क्योंकि यहां उनके घरेलू मैदान है।


तो आज हम बात करने वाले हैं उन खिलाड़ियों के बारे में जो इस विश्व कप में खेलते हुए नजर नहीं आएंगे लेकिन वर्तमान में अपनी-अपनी टीमों के लिए खेल रहे हैं। तो चलिए डालते है एक नजर।


3 क्रिकेटर जो नहीं आएंगे 2020 के टी20 विश्वकप में नजर


1. महेंद्र सिंह धोनी




भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी जो अब तक 338 वनडे मैच खेल चुके हैं। वहीं अगर टी-20 की बात करें तो 94 मैचों में इनके बल्ले से 37 की औसत से 1526 निकले हैं। साथ ही आपको यह भी याद दिला दें कि जब भारत ने 2007 का टी-20 विश्व कप जीता था तब धोनी कप्तान थे। लेकिन अब यह 2020 तक संन्यास ले लेंगे इस कारण खेलते हुए नजर नहीं आएंगे।


2. लसिथ मलिंगा




श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के अनुभवी तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा दुनिया के सबसे खतरनाक गेंदबाजों में से एक है। बता दें कि 35 वर्षीय मलिंगा जिन्होंने 2018 के एशिया कप में वापसी की थी किंतु अब इनका करियर इतना नहीं है और संभवत 2020 के विश्व कप से पूर्व संन्यास ले लेंगे। मलिंगा ने 70 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में अब तक 94 विकेट लिए हैं।


3. रॉस टेलर




न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर जिनके बारे में भी खबरें यही मिल रही है कि वह 2019 विश्व कप के बाद क्रिकेट को अलविदा कह देंगे। बता दें कि टेलर ने अब तक 96 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेले जिसमें 1523 रन बनाए हैं।


तो देखा जाएगा कि ये धुरंधर वाकई 2020 का विश्व कप खेल पाते हैं या नहीं क्योंकि बाहर खबरें कुछ भी मिले लेकिन अंतिम निर्णय खिलाड़ियों को ही लेना होता है। इस विश्वकप से पूर्व इंग्लैंड और वेल्स में इसी वर्ष 50 ओवरों का भी विश्व कप खेला जाने वाला है जिसमें ये अपना जलवा दिखा सकते है।


यह भी जरूर पढ़ें- 3 टीम जो 2020 टी20 खिताब जीतने की प्रबल दावेदार बताई जा रही हैं, पाकिस्तान सबसे मजबूत टीम बताई गयी

0 Comment

5 खिलाड़ी जो अभी भी विश्वकप 2019 की भारतीय टीम में जगह बना सकते हैं

आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 शुरू होने में अब 2 महीने से भी कम का समय बाकि हैं. भारत सहित सभी टीमें एक मजबूत बनाने के लिए तैयारियों में जुट चुकी हैं. इंग्लैंड के विरुद्ध हाल में खेली गयी वनडे सीरीज के दौरान टीम इंडिया के मध्यक्रम की नाकामी खुलकर सामने आई. जिसके बाद टीम मैनेजमेंट अब कुछ बड़े फैसले ले सकती हैं और टीम से कुछ खिलाड़ियों को निकालकर अन्य खिलाड़ियों को मौका दे सकती हैं.

इस लेख में 5 ऐसे खिलाड़ियों के बारे में जानेगे, जो अब भी आईसीसी वर्ल्डकप 2019 के लिए टीम इंडिया में जगह बना सकते हैं.



1) ऋषभ पंत

दिल्ली के घरेलू क्रिकेट खेलने वाले युवा विकेटकीपर बल्लेबाज़ ऋषभ पंत पिछले कुछ वर्षो से घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छी बल्लेबाज़ी के कारण सुर्ख़ियों में हैं. बेहद कम समय में पंत ने बतौर विस्पोटक बल्लेबाज़ अपनी एक अलग पहचान बनायीं हैं. आईपीएल 11 में भी पंत ने कई तूफानी पारी खेलते हुए सभी को प्रभावित किया था.

ऋषभ पंत पर अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए पूरी तरह से तैयार है. ऐसे में टीम मैनेजमेंट उन्हें वर्ल्डकप 2019 में एमएस धोनी के विकल्प के रूप में शामिल कर सकती हैं.



2) अंबाती रायडू

अंबाती रायडू एक बेहद अनलकी क्रिकेटर रहे हैं. अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में शानदार बल्लेबाज़ी के बावजूद वह आज टीम इंडिया के हिस्सा नहीं हैं. आईपीएल 2018 में भी रायडू ने 16 मैचो में 43 की औसत से 602 रन बनायें थे, इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 150 के करीब रहा था. आईपीएल में धमाल मचाने के बाद रायडू को इंग्लैंड दौरे पर खेली जाने वाली सिमित ओवर सीरीज के लिए टीम में चुना गया था लेकिन योयो टेस्ट में फेल होने के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया.



3) क्रुनाल पंड्या

क्रुनाल पंड्या अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू के बेहद करीब हैं. क्रुनाल ने पिछले वर्षो से घरेलू क्रिकेट में अपनी फिरकी गेंदबाजी और आक्रामक बल्लेबाजी के सभी को हैरान किया हैं. क्रुनाल ने आईपीएल 2016 में मुंबई इंडियंस के ओर से खेलते हुए डेब्यू किया था और अपने प्रदर्शन से हार्दिक पंड्या के बड़े भाई होने का टैग हटा दिया.

क्रुनाल पंड्या अपनी स्पिन गेंदबाजी के साथ-साथ निचकेक्रम  पर मैच फिनिश करने की क्षमता रखते हैं. क्रुनाल पंड्या टीम इंडिया में नंबर 6 पर अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं. जिसके कारण चयनकर्ता वर्ल्डकप 2019 की टीम चुनने के दौरान क्रुनाल पर विचार कर सकते हैं.



4) वाशिंगटन सुंदर

तमिलनाडु के युवा स्पिन ऑलराउंडर वाशिंगटन सुंदर एक बेहद ही होनहार खिलाड़ी हैं. कुछ महीनों पहले श्रीलंका में खेली गयी निद्हास ट्राफी में सुंदर को चुना था, जिस दौरान उन्होंने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया हैं. इस सीरीज के दौरान सुंदर सबसे ज्यादा विकेट लेने के साथ मैन ऑफ़ द सीरीज जीतने वाले खिलाड़ी रहे थे.

आईपीएल 2018 में वाशिंगटन सुंदर विराट कोहली की कप्तानी वाली आरसीबी के लिए खेलते हुए दिखाई दिए थे, हालाँकि उनका प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा था. चोट के कारण टीम से बाहर चल रहे सुंदर के लिए टीम इंडिया में जगह बनाना आसान नहीं होगा, लेकिन वह जल्द ही अपनी कमजोरियों को सुधारकर टीम इंडिया में नंबर 7 की पोजीशन पर फिट हो सकते हैं.



5) श्रेयस अय्यर

इस सूची में शामिल किये गए खिलाड़ियों में से श्रेयस अय्यर टीम इंडिया में शामिल किये जाने वाले सबसे प्रबल दावेदार हैं. आईपीएल सहित घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के बाद उन्हें अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू का मौका मिला था. इस दौरान उन्होंने श्रीलंका के विरुद्ध दो लगातार अर्द्धशतक जरुर लगायें, लेकिन दक्षिण अफ्रीका में खेली गयी वनडे सीरीज में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा. जिसके बाद उन्हें प्लेइंग इलेवन के बाहर कर दिया गया.

श्रेयस अय्यर एक ऐसे खिलाड़ी हैं, जो जल्द ही घरेलू क्रिकेट में दोबारा अच्छा प्रदर्शन करके टीम इंडिया में वापसी कर सकते हैं. वर्ल्डकप 2019 खेलने वाले भारतीय टीम में अय्यर नंबर 4 खेल सकते हैं.


यह भी जरूर पढ़ें- धोनी या गांगुली नहीं बल्कि ये 3 इंडियन खिलाड़ी है भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान, इनकी कप्तानी में कभी नहीं हारी टीम इंडिया

0 Comment