परिवार के मना करने और लोगों के हसनें पर भी झूलन गोस्वामी ने कभी हार नहीं मानी, पापा से बोला था मैं क्रिकेटर बनकर दिखाऊंगी पापा

परिवार के मना करने और लोगों के हसनें पर भी झूलन गोस्वामी ने कभी हार नहीं मानी, पापा से बोला था मैं क्रिकेटर बनकर दिखाऊंगी पापा

एक वक्त था कि महिलाओं के क्रिकेट खेलने को लेकर लोग हंसी मजाक मानते थे. जहां महिला क्रिकेट खेलने की बात करती थी वहीं उनकी हंसी उड़ाई जाती थी. लेकिन वक्त बदला और महिला खिलाड़ी के एक से एक चेहरे निखरकर सामने आने लगे, अब जो लोग महिलाओं की हंसी लेते थे वही आज शाबाशी भी देने लगे और दे भी क्यों ना, महिलाएं लड़कर यह लड़ाई जो जीती हैं.

एक से एक रिकॉर्ड कायम करके महिला क्रिकेटर किसी पुरुष क्रिकेटर से कम नहीं है यदि अंतर है तो सिर्फ इतना कि महिला क्रिकेट में लोग कम रूचि लेते हैं. आज हम आपको महिला खिलाड़ी झूलन गोस्वामी का परिचय देंगे जिसे जानकर आपकी रूचि महिला क्रिकेट की तरफ जरूर बढ़े


jhulan goswami biography | क्रिकेटर झूलन गोस्वामी की जीवनी


झूलन गोस्वामी के ऐसे 10 तथ्य जिन्हें जानकर आप अचंभित हो जाएंगे


1. आपको बता दें कि झूलन गोस्वामी का जन्म 25 नवंबर 1983 में पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में हुआ. झूलन गोस्वामी की हाइट 5 फुट 11 इंच है जो खुद में दर्शाती है कि यह किसी पुरुष खिलाड़ी से कम नहीं है.


2. झूलन गोस्वामी सितंबर 2007 में सुर्खियों में आई क्योंकि इन्हें विश्व की सबसे तेज गेंदबाज घोषित करते हुए आईसीसी रैंकिंग में महिला क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया.


3. झूलन गोस्वामी एक बेहतरीन गेंदबाज है इनकी गेंदबाजी की गति 120 किलोमीटर प्रति घंटा है जो विश्व महिला क्रिकेट में सर्वाधिक है. यही कारण है कि आईसीसी ने इन्हें विश्व की सबसे तेज महिला गेंदबाज घोषित किया.


4. झूलन सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली दूसरी महिला क्रिकेटर हैं इन्होंने 79 एकदिवसीय मैचों में 96 विकेट लिए हैं.




5.यहां तक पहुंचने में झूलन ने बहुत कड़ी मेहनत की क्योंकि इनके क्रिकेटर बनने में इनकी मां- बाप इनसे नाराज रहते थे एक बार तो ये क्रिकेट खेलकर रात में घर देरी से पहुंची थी तो इनकी मां ने इन्हें बाहर ही खड़े रखा.


6. आज वही झूलन गोस्वामी नदिया एक्सप्रेस के नाम से जाने जाती हैं. बता दें कि झूलन ने अपना पहला टेस्ट मैच लखनऊ में इंग्लैंड की टीम के विरुद्ध 2002 में खेला था तब वह केवल 18 साल की थी.


7. उन्होंने 2007 तक 8 टेस्ट मैच खेले जिसमें 33 विकेट हासिल किए झूलन कभी भी विकेट लेने में पीछे नहीं रही. इस लीसेस्टर में हुई एक सीरीज के मैच में झूलन ने 78 रन देकर 10 विकेट लिए.


8. झूलन कहती हैं कि ज्यादातर लोग नहीं जानते कि “महिलाएं भी क्रिकेट खेलती है लेकिन मीडिया के कवरेज के बाद भारत में महिला क्रिकेट को भी जाना गया."




9. झूलन को 2006 में मुंबई के कैस्ट्रोल की तरफ से स्पेशल अवॉर्ड भी दिया गया.


10. शुरूआत में इन्होनं अपनी प्रैक्टिस लड़को के साथ की थी. वो इनकी बॉलिग करने पर हंसते थे जो इन्हें बिल्कुल भी पसमद नहीं था लेकिन हार ना मानते हुए मेहनत करके आज ये दुनिया की सबसे बेहरतीन बल्लेबाजी करने वाली महिला खिलाड़ी बनी गई.


Also Read


टाइल की फैक्ट्री में काम करने वाला खिलाड़ी इंडियन टीम को जीता चुका है विश्वकप, पढ़िए इस भारतीय क्रिकेटर की अनसुनी कहानी


इंडियन क्रिकेट टीम का ऐसा खिलाड़ी जो बारहवीं पढ़ने के बाद मजदूरी करते-करते बना क्रिकेटर, दो वक़्त की रोटी खाने के लिए भी कभी पैसे नहीं बचे थे


परिवार के मना करने पर और लोगों के हसनें पर भी झूलन गोस्वामी ने हार नहीं मानी और कर दिखाया यदि कुछ करने का जज्बा हो तो लोगों क्या कहते और आपके बारें क्या सोचते है कोई भी फर्क नहीं पड़ता. आपके सपने केवल आपके ही हैं और आप ही उन सपनों को मंजिल दे सकते है.

0 Comment