3 भारतीय खिलाड़ी जो विश्वकप 2019 से हुए बाहर, मुश्किल है इनका विश्वकप की 15 सदस्यीय टीम में जगह बनाना

3 भारतीय खिलाड़ी जो विश्वकप 2019 से हुए बाहर, मुश्किल है इनका विश्वकप की 15 सदस्यीय टीम में जगह बनाना

2019 में 50 ओवरों का क्रिकेट विश्व कप खेला जाने वाला है. बता दें कि इसका आयोजन एक बार फिर से इंग्लैंड कर रहा है जबकि इनकी साथी आयोजक वेल्स है. हालांकि इस विश्व कप में जिंबाब्वे और आयरलैंड की पुरानी टीमें खेलती हुई नजर नहीं आएगी. जबकि अफगानिस्तान की टीम ने अपनी जगह पक्की कर दी है. आज हम बात करने वाले हैं भारतीय टीम के कुछ खिलाड़ियों के बारे में जिन्हें जगह बना पाना अब मुश्किलात में डाल सकता है.


2019 विश्व कप में इन खिलाड़ियों के लिए जगह बनाना होगा थोड़ा कठिन


लोकेश राहुल

लोकेश राहुल जिनका जन्म 18 अप्रैल 1992 को कर्नाटक के बेंगलुरु में हुआ था. 26 वर्षीय राहुल जिन्होंने अब तक 34 टेस्ट मैच खेले हैं जबकि 25 टी-20 और 13 वनडे मैच खेल चुके हैं. लेकिन आईपीएल 2018 के बाद इनका बल्ला बिल्कुल खामोश है. जानकारी के लिए बता दें कि राहुल जो अभी भारतीय टीम से बाहर चल रहे है. लगातार खराब प्रदर्शन की वजह से इनको शायद ही इस विश्व कप में जगह दी जाएगी.


रविंद्र जडेजा

भारतीय टीम के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर खिलाड़ियों में से एक रविंद्र जडेजा जिन्होंने 147 वनडे मैच खेले हैं जिसमें 30 की औसत से 1990 रन और 171 विकेट लिए हैं. लेकिन लगातार एक-दूसरे स्पिनर की वजह से इनके लिए भी मुश्किले बढ़ रही हैं. हालांकि यह पुष्टि के साथ तो नहीं कहा जा सकता कि जडेजा नहीं खेलेंगे लेकिन मुश्किलात जरूर बढ़ रही हैं.


युजवेंद्र चहल

कुलदीप यादव के साथी स्पिन गेंदबाज युजवेंद्र चहल एक शानदार स्पिन गेंदबाज है. चहल ने अब तक 28 टी-20 मैचों में 45 और 40 वनडे मैचों में 71 विकेट लिए हैं. लेकिन रविंद्र जडेजा की वापसी के बाद इनको भी अंदर बाहर होना पड़ रहा है. जिसकी वजह से इनकी भी पूरी तरह से जगह बना पाना मुश्किलों में है. हालांकि ऐसा भी हो सकता है कि युजवेंद्र चाहल और जडेजा दोनों को इस विश्व का मौका मिले लेकिन अभी कुछ नहीं कहा जा सकता.

तो इस विश्व कप का पहला मुकाबला जो इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच 30 मई को होगा जबकि भारत 5 जून को अफ़्रीका के साथ मैच खेलने वाली है. इस विश्व कप का फाइनल मुकाबला 14 जुलाई को लॉर्ड्स के ऐतिहासिक क्रिकेट ग्राउंड पर होने वाला है.

0 Comment

3 टीमें जो भारत को विश्वकप 2019 में हराती हुई नजर आ सकती हैं

 विश्व कप 2019 की तैयारी में भारतिय टीम जोडों शोरों से लगी है। भारतीय टीम को इस दफा विश्व कप का प्रबल दावेदार भी माना जा रहा है पर कुछ टीम ऐसी है जिनसे भारत को सतर्क रहना होगा वर्ना यह टीमें भारत को पटखनी दे सकती है। आइए नजर डालते हैं उन टीमों पर जिनसे भारत को संभलने की जरूरत है।



 

3. न्यूजीलैंड


केन विलियम्सन की अगुवाई वाली न्यूजीलैंड टीम ने पिछले दो तीन वर्षों में शानदार प्रदर्शन किया है। न्यूजीलैंड का विश्वकप में ऐसे भी भारत के खिलाफ रिकॉर्ड शानदार रहा है। अब तक यह दोनों टीमें 6 बार विश्वकप में.आमने सामने आई हैं और इनमें से 4 बार न्यूजीलैंड ने भारत को पटखनी दी है। टीम का मजबूत पक्ष है इसके तेज गेंदबाज। ट्रैंट बोल्ट, टिम साउदी जैसे तेज गेंदबाज किसी भी बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त कर सकते हैं और इंग्लैंड की सीमींग विकटें उनके लिए मददगार भी साबित होंगी। ऐसे में अगर वह भारत के ऊपरी क्रम को आऊट कर देते हैं तो अनुभवहीन मध्यक्रम का उनको झेलना मुश्किल हो जाएगा।टीम में रोस टेलर, मार्टिन गुप्टिल, टाम लैदम और केन विलियम्सन जैसे उच्च स्तरीय बल्लेबाज भी हैं। इसलिए भारत को अगर जीतना है तो उन्हें अपने स्पिनरों पर निर्भर होना पड़ेगा क्योंकि यही न्यूजीलैंड का कमजोरी पक्ष है।



 

2. दक्षिण अफ्रीका


न्यूजीलैंड की तरह दक्षिण अफ्रीका का भी मजबूत पक्ष है उनकी तेज गेंदबाजी। कगिसो रबाडा, फेलूक्वायो और महान डेल स्टेन जैसे गेंदबाजों के दम पर यह टीम किसी भी विपक्षी को ध्वस्त कर सकते हैं। भारत की सीम और बाउंस के खिलाफ कमजोरियों का वे फायदा उठा सकते हैं और भारत को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। टीम में हासिम अमला, डी काक, डेविड मिलर और कप्तान डु प्लेसिस जैसे उम्दा बल्लेबाज भी हैं जो स्पिन और तेज गेंदबाज दोनों के खिलाफ सक्षम हैं। ऐसे में यह टीम भारत के खिलाफ मजबूत प्रदर्शन कर सकता है और भारत को इसके लिए तैयार रहना होगा।



 

1. इंग्लैंड


इंग्लैंड इस विश्व कप में नंबर एक ओडीआई टीम के रूप में प्रवेश कर रही है और उनका आत्मविश्वास काफी ऊंचा होगा। इयान मोर्गन की कप्तानी में इंग्लैंड पिछले एक दो वर्षों में जिस तरह का क्रिकेट खेला है वह किसी भी विपक्षी को डरा सकता है। टीम का रवैया काफी आक्रामक है और उनकी बल्लेबाजी और गेंदबाजी युनिट दोनों ही मजबूत दिखता है।


बल्लेबाजी की जिम्मेदारी जहाँ एक तरफ बैर्सटा, रोय, हेल्स, रूट, बटलर और कप्तान मोर्गन सरीखे खिलाड़ियों ने उठा रखी है वहीं टीम के पास करन, राशिद, बाल जैसे उम्दा गेंदबाज भी हैं और साथ ही स्टोक्स एवं मोईन अली जैसे उच्चस्तरीय आलराउंडर। इंग्लैंड की टीम कभी विश्वकप नहीं जीते हैं और अपनी सरजमीं पर वे इस रिकॉर्ड को बदलना चाहेंगे और ऐसे में भारत को उनसे सावधानी बरतने की जरूरत।

0 Comment

धोनी या गांगुली नहीं बल्कि ये 3 इंडियन खिलाड़ी है भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान, इनकी कप्तानी में कभी नहीं हारी टीम इंडिया

भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान- भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तानों की बात की जाती हैं तो कपिल देव, सौरव गांगुली और एमएस धोनी का नाम सबसे पहले लिया जाता हैं. दरअसल इन तीनों खिलाड़ियों ने बतौर कप्तान टीम इंडिया को कई एतिहासिक जीत दिलाई दिलाई हैं. लेकिन आज इस लेख में हम टीम इंडिया के 3 ऐसे कप्तानों की बात करेगे, जो जब भी वनडे क्रिकेट में टीम इंडिया के लिए बतौर कप्तान खेले हैं, तब-तब भारत को कोई नहीं हरा पाया हैं. देखे कौन है ये खिलाड़ी:- 


Who is the best captain in cricket of India? | भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान




1. गौतम गंभीर (Gautam Gambhir captaincy record)

इस सूची में बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर का नाम सबसे उपर हैं. आईपीएल में कोलकाता को दो बार आईपीएल जितवाने वाले गंभीर ने भारत के 6 वनडे मैचो में कप्तानी की हैं, इन सभी मैचो में टीम इंडिया को जीत मिली हैं. वर्ष 2010 में न्यूज़ीलैण्ड के विरुद्ध खेली गयी 5 मैचो की घरेलू वनडे सीरीज के दौरान गंभीर को पहली बार टीम की कप्तानी सौंपी गयी थी. इस सीरीज में गंभीर की कप्तानी वाली टीम इंडिया ने 5-0 से जीत दर्ज की थी.




2. अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane captaincy record)

टीम इंडिया के टेस्ट उपकप्तान अजिंक्य रहाणे का भी वनडे और टेस्ट में बतौर कप्तान 100% जीत का रिकॉर्ड हैं. अजिंक्य रहाणे को वर्ष 2015 में जिम्बाब्वे दौरे पर बतौर कप्तान भेजा गया. इस दौरान उन्होंने जिम्बाब्वे को 3 वनडे मैचो की सीरीज में 3-0 से हराया था. इसके आलावा रहाणे को अब तक टेस्ट क्रिकेट में भी दो बार टीम की कप्तानी का मौका मिला हैं. इन दोनों मौको पर टीम इंडिया को जीत मिली हैं.




3. अनिल कुंबले (Anil Kumble captaincy record)

पूर्व भारतीय स्पिनर और कोच अनिल कुबले का बतौर टेस्ट कप्तान रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा हैं. हालाँकि वनडे क्रिकेट में उनका कप्तानी रिकॉर्ड 100 फीसदी रहा हैं. वर्ष 2002 में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले चेन्नई वनडे में कुंबले को चोटिल गांगुली के स्थान पर मौका मिला था. इस मैच में इंडिया को जीत मिली थी. हालाँकि इसके बाद उन्हें दोबारा कभी वनडे क्रिकेट में कप्तानी का मौका नहीं मिला.       

तो इन तीनों ही खिलाड़ियों के रिकार्ड्स देखकर बोला जा सकता है कि यह तीनों इंडियन टीम के सबसे अच्छे कप्तान बोले जा सकते हैं. इन तीनों के रिकार्ड्स देखकर बोला जा सकता है कि यह भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान बोले जा सकते हैं.

यह भी जरूर पढ़ें- ये खतरनाक क्रिकेटर अपने साथ रखता था चाकू, चाकूबाजी करने में हो चुकी है इसको जेल

0 Comment

विश्वकप 2019: इंडियन टीम में नंबर 6 पर इन 3 महान बल्लेबाजों में से कोई एक करेगा बल्लेबाजी

विश्वकप 2019 की तैयारियां पूरी तरह से शुरू होने वाली ही है क्योंकि इस बार यह टूर्नामेंट इंग्लैंड और वेल्स में मई के महीने में शुरू होगा। बता दें कि 50 ओवरों के विश्व कप का आयोजन 30 मई से इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका की मैच के साथ होगा और फाइनल मुकाबला 14 जुलाई को लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जाएगा।


इस विश्वकप में टीम इंडिया अपना पहला मुकाबला 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के साथ खेलने वाली है। टीम इंडिया के लिए अच्छी खबर तो यह है कि पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी एक बार फिर से शानदार फॉर्म में लौट चुके हैं। धोनी जिन्होंने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज में लगातार तीन अर्धशतक बनाए है।


आज हम बात करने वाले हैं इस आगामी विश्व कप में भारत के नंबर 6 के तीन बल्लेबाजों के बारे में जो इस अपनी जगह पक्की कर सकते हैं और इंडियन क्रिकेट टीम के लिए कुछ खास प्रदर्शन भी।



हार्दिक पांड्या


जैसा कि आपको बता दें कि हार्दिक पांड्या इन दिनों काफी मुसीबतों में है। बात यह है कि करण जोहर के कॉफी विद करण शो में इन्होंने कुछ विवादित बयान दिए थे इस कारण बीसीसीआई ने अभी सस्पेंड कर दिया है। लेकिन जल्द ही टीम में वापसी करने की उम्मीद है। अगर एक नजर इनके कैरियर पर डालें तो वनडे मैचों में 29 की औसत से 670 रन बनाए हैं और 40 विकेट ले चुके हैं। इस कारण आगामी विश्व कप में नंबर 6 के रूप अच्छे बल्लेबाजी के विकल्प है।



दिनेश कार्तिक


अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक जिन्होंने अब तक भारतीय टीम के लिए 89 वनडे मैच खेले हैं। कार्तिक हमेशा अंदर बाहर होते रहे हैं लेकिन अब वह पिछले काफी समय से टीम में लगातार जगह बना रहे हैं। साथ ही बल्लेबाजी में भी अच्छा योगदान दे रहे हैं इस कारण आगामी विश्व कप में कार्तिक नंबर 6 के रूप में अच्छा विकल्प बन सकते हैं।



महेंद्र सिंह धोनी


भारतीय क्रिकेट टीम को 2 बार विश्वकप जीताने वाले महेंद्र सिंह धोनी जो अलग-अलग नंबर पर हमेशा खेलते आये हैं। यह मुख्य रूप से नंबर 6 और 7 पर काफी लंबे समय तक खेले और अब आगामी विश्व कप में भी एक बार फिर से इन नंबरों पर खेलते हुए देखे जा सकते हैं। हालांकि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ माही नंबर 4 और 5 पर बल्लेबाजी करते हुए नजर आए थे। लेकिन अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता कि यह आगे भी इसी तरह खेलेंगे या नहीं। धोनी ने 365 मैचों में 10366 रन बनाए हैं।


यह भी जरूर पढ़ें- नंबर 4 पर इंडियन टीम में बल्लेबाजी, 2019 विश्वकप में धोनी और अंबाती रायडू को यह धुरंधर बल्लेबाज दे रहा है नंबर 4 पर चुनौती

0 Comment